Ramdev Chalisa In Hindi (श्री रामदेव चालीसा): Lyrics, Arth Sahit

जानने की आवश्यकता
सम्पूर्ण रामदेव चालीसा हमने इस आर्टिकल में Ramdev Chalisa के साथ उपलब्ध कराने का प्रयास किया है तक आप जब चाहे पाठ कर सकते है
Icon
2.5/5 (31)
Name Ramdev Chalisa : श्री रामदेव चालीसा
Category Chalisa
No. Of Pages 3
Size 473KB
Source ChalisaPDF.in

Ramdev Chalisa In Hindi: रामदेव चालीसा रामदेव को समर्पित एक भक्तिपूर्ण भजन है। यह चालीस छंदों या चौपाइयों का संग्रह है जो रामदेव के गुणों का गुणगान करते हैं और उनके आशीर्वाद का आह्वान करते हैं। चालीसा रामदेव के भक्तों के बीच एक लोकप्रिय प्रार्थना है और इसे बड़ी भक्ति और उत्साह के साथ पढ़ा जाता है।

रामदेव चालीसा के अर्थ

रामदेव चालीसा की शुरुआत भगवान राम के आह्वान से होती है, जिन्हें हिंदू परंपरा में परम वास्तविकता के रूप में पूजा जाता है। यह बाबा रामदेव की महिमा और महानता और उनकी चमत्कारी शक्तियों का वर्णन करता है। चालीसा रामदेव को एक रक्षक के रूप में चित्रित करती है जो अपने भक्तों को सभी प्रकार की परेशानियों और दुर्भाग्य से बचाता है।

चालीसा में रामदेव को एक योगी के रूप में वर्णित किया गया है, जिन्होंने योग के आठ अंगों में महारत हासिल की है और समाधि की स्थिति प्राप्त की है, जो चेतना की उच्चतम अवस्था है। यह तत्वों पर उनकी महारत और चमत्कार करने की उनकी क्षमता की प्रशंसा करता है। यह उन्हें एक दयालु व्यक्ति के रूप में भी दर्शाता है जो उनका आशीर्वाद लेने वालों की मदद करने के लिए हमेशा तैयार रहते हैं।

रामदेव चालीसा न केवल एक भक्तिमय स्तोत्र है बल्कि भक्तों के लिए प्रेरणा और मार्गदर्शन का स्रोत भी है। यह उन्हें एक धर्मी और सदाचारी जीवन जीने, दूसरों के प्रति दयालु होने और ईश्वर में विश्वास रखने की शिक्षा देता है। यह उन्हें आध्यात्मिक ज्ञान प्राप्त करने के साधन के रूप में योग और ध्यान का अभ्यास करने के लिए भी प्रोत्साहित करता है।

चालीसा का पाठ (Ramdev Chalisa से कर सकते है) आमतौर पर सुबह या शाम को या तो अकेले या समूह में किया जाता है। ऐसा माना जाता है कि भक्ति और ईमानदारी के साथ चालीसा का पाठ करने से व्यक्ति के जीवन में सकारात्मक बदलाव आ सकते हैं। यह बाधाओं को दूर करने, अपने प्रयासों में सफलता प्राप्त करने और आध्यात्मिक विकास प्राप्त करने में मदद कर सकता है।

रामदेव चालीसा रामदेव के भक्तों के बीच एक लोकप्रिय प्रार्थना है, विशेष रूप से राजस्थान और गुजरात के क्षेत्रों में जहाँ उनकी व्यापक रूप से पूजा की जाती है। यह अक्सर त्योहारों और विशेष अवसरों जैसे कि रामदेव जयंती, बाबा रामदेव की जयंती के दौरान सुनाया जाता है। चालीसा विभिन्न भाषाओं में भी उपलब्ध है और इसे किताबों, ऑडियो रिकॉर्डिंग और ऑनलाइन संसाधनों के रूप में पाया जा सकता है।

अंत में, रामदेव चालीसा एक शक्तिशाली भक्ति भजन है जो बाबा रामदेव के जीवन और शिक्षाओं का जश्न मनाता है। यह उन भक्तों के लिए प्रेरणा, मार्गदर्शन और सांत्वना का स्रोत है जो उनका आशीर्वाद चाहते हैं। चालीसा हमें एक सदाचारी और दयालु जीवन जीने और परमात्मा में विश्वास रखने की शिक्षा देती है। यह बाबा रामदेव की महानता और महिमा और उनकी चमत्कारी शक्तियों की याद दिलाता है, जो आज भी हमें प्रेरित और मार्गदर्शन करते हैं।

श्री रामदेव चालीसा – Ramdev Chalisa Hindi

॥ दोहा ॥

श्री गुरु पद नमन करि, गिरा गनेश मनाय।

कथूं रामदेव विमल यश, सुने पाप विनशाय॥

द्वार केश से आय कर, लिया मनुज अवतार।

अजमल गेह बधावणा, जग में जय जयकार॥

॥ चौपाई ॥

जय जय रामदेव सुर राया। अजमल पुत्र अनोखी माया॥

विष्णु रूप सुर नर के स्वामी। परम प्रतापी अन्तर्यामी॥

ले अवतार अवनि पर आये। तंवर वंश अवतंश कहाये॥

संत जनों के कारज सारे। दानव दैत्य दुष्ट संहारे॥

परच्या प्रथम पिता को दीन्हा। दूध परीण्डा मांही कीन्हा॥

कुमकुम पद पोली दर्शाये। ज्योंही प्रभु पलने प्रगटाये॥

परचा दूजा जननी पाया। दूध उफणता चरा उठाया॥

परचा तीजा पुरजन पाया। चिथड़ों का घोड़ा ही साया॥

परच्या चौथा भैरव मारा। भक्त जनों का कष्ट निवारा॥

पंचम परच्या रतना पाया। पुंगल जा प्रभु फंद छुड़ाया॥

परच्या छठा विजयसिंह पाया। जला नगर शरणागत आया॥

परच्या सप्तम् सुगना पाया। मुवा पुत्र हंसता भग आया॥

परच्या अष्टम् बौहित पाया। जा परदेश द्रव्य बहु लाया॥

भंवर डूबती नाव उबारी। प्रगत टेर पहुँचे अवतारी॥

नवमां परच्या वीरम पाया। बनियां आ जब हाल सुनाया॥

दसवां परच्या पा बिनजारा। मिश्री बनी नमक सब खारा॥

परच्या ग्यारह किरपा थारी। नमक हुआ मिश्री फिर सारी॥

परच्या द्वादश ठोकर मारी। निकलंग नाड़ी सिरजी प्यारी॥

परच्या तेरहवां पीर परी पधारया। ल्याय कटोरा कारज सारा॥

चौदहवां परच्या जाभो पाया। निजसर जल खारा करवाया॥

परच्या पन्द्रह फिर बतलाया। राम सरोवर प्रभु खुदवाया॥

परच्या सोलह हरबू पाया। दर्श पाय अतिशय हरषाया॥

परच्या सत्रह हर जी पाया। दूध थणा बकरया के आया॥

सुखी नाडी पानी कीन्हों। आत्म ज्ञान हरजी ने दीन्हों॥

परच्या अठारहवां हाकिम पाया। सूते को धरती लुढ़काया॥

परच्या उन्नीसवां दल जी पाया। पुत्र पाय मन में हरषाया॥

परच्या बीसवां पाया सेठाणी। आये प्रभु सुन गदगद वाणी॥

तुरंत सेठ सरजीवण कीन्हा। उक्त उजागर अभय वर दीन्हा॥

परच्या इक्कीसवां चोर जो पाया। हो अन्धा करनी फल पाया॥

परच्या बाईसवां मिर्जो चीहां। सातो तवा बेध प्रभु दीन्हां॥

परच्या तेईसवां बादशाह पाया। फेर भक्त को नहीं सताया॥

परच्या चैबीसवां बख्शी पाया। मुवा पुत्र पल में उठ धाया॥

जब-जब जिसने सुमरण कीन्हां। तब-तब आ तुम दर्शन दीन्हां॥

भक्त टेर सुन आतुर धाते। चढ़ लीले पर जल्दी आते॥

जो जन प्रभु की लीला गावें। मनवांछित कारज फल पावें॥

यह चालीसा सुने सुनावे। ताके कष्ट सकल कट जावे॥

जय जय जय प्रभु लीला धारी। तेरी महिमा अपरम्पारी॥

मैं मूरख क्या गुण तब गाऊँ। कहाँ बुद्धि शारद सी लाऊँ॥

नहीं बुद्धि बल घट लव लेशा। मती अनुसार रची चालीसा॥

दास सभी शरण में तेरी। रखियों प्रभु लज्जा मेरी॥

।। इति श्री रामदेव चालीसा समाप्त ।।

Ramdev Chalisa Video (श्री रामदेव चालीसा)

Leave a Comment